शुक्रवार, 11 जनवरी 2013

दो शहीद




चित्र गूगल से साभार



"दो जवान
सरहद पर शहीद हुए हैं" ,
मंत्री जी देश को बता रहे हैं,
"सुनो, सुनो, सुनो ,
हमने कड़े शब्दों में
अपना विरोध जताया है।
"पाक" के   राजदूत को बुलाकर
बताया है ---
तुम्हारे सैनिक युद्ध विराम का
उल्लंघन किया है।
हमेशा तुम ऐसा करते आये हो
हमारे सैनिको को मारते आये हो
लेकिन हमने हमेशा नजर अंदाज किया ,
फिर से क्यों किया ?
अबकी बार तो बर्बरता का काम किया
एक सैनिक का सर तुमने काट लिया 
यह अच्छा नहीं किया।
लिखकर कारण बताओ, ऐसा क्यों किया ?
आशा है आगे ऐसा नहीं करोगे और
लिखकर जवाब भेज दोंगे ।"

मंत्री जी का भाषण समाप्त हुआ
आश्वासन की  पोटली  खुली और
वादा शुरू हुआ।

"हेमराज और सुधाकर थे
बहादुर और इमानदार ,
थे दिलेर सैनिक बेमिसाल।
देश की रक्षा में हुए  न्योछावर
इनके बीबी बच्चो का हम रखेंगे ख्याल।
इनको घर देंगे , शिक्षा देंगे ,नौकरी भी देंगे,
हर हाल में हम उनकी करेंगे देखभाल।
तभी एक पत्रकार ने कहा --
"मंत्री जी! ऐसा ही कुछ आपने
कारगिल के शहीदों के परिवार को कहा था,
कुछ याद आया ?
वे सब फ़ाइले अभी भी आपके
मेज पर धुल चाट रही है और
परिवार वाले दफ्तर के
चक्कर काट रहे हैं।"




चित्र गूगल से साभार 

"देखिये उन नन्हे मासूमों को
सुनी सुनी ,छलकती आँखों से
तक रहे है बिलखती माँ को ,
शायद समझ नहीं पा रहे हैं
कि माँ क्यों रो रही है।
नहीं पता उन्हें कि
हमेशा के लिए वे खो दिया है पिता को।"

"क्या मासूमो से किया वादा
आपकी राजनीति है या छलना ?"

जो मिलना है उन्हें  देश से
वह नहीं है आपका कृपादान ,
सैनिक लड़ते हैं सरहद पर
लेकर हथेली पर जान,
उनके बच्चों का है यह हक़
अच्छी शिक्षा ,अच्छा जीवन और सम्मान।
अगर कुछ करना चाहते हो
तो नन्हे मुन्नों से किया वादा
अबिलम्ब पूरा कर दो ।
बूढ़े माँ बाप का सहारा छीन गया
उन्हें जीने का सहारा दे दो।
मुखौटा तुम उतार फेंको
कायरों का हाथ काट कर फेंको
युद्ध के लिए ललकारो उन्हें , समझाओ
वीरों का युद्ध कैसा होता है  ???
आमने सामने की लड़ाई में , बताओ उन्हें
हिंदुस्तानी एक  सर की कीमत कितनी होती है???
चोरो की भांति आये और चोरों की भांति गए
अँधेरा, कुहरा  का फायदा उठा कर
लोमड़ी की तरह भागे ,
उनसे हाथ मिलाने में आपको
शर्म हो न हो , या
कोई कुछ बोले न बोले
शर्म होगी हर हिंदुस्तानी  को।
श्रद्धांजलि 

बहादुर शहीदों को सलाम !!!


 कालीपद " प्रसाद  "
©सर्वाधिकार सुरक्षित












23 टिप्‍पणियां:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

इनके सर कर दो कलम ........... फिर भाषण के मायने समझ में आयेंगे

madhu singh ने कहा…

Vakayee me enke sir kalam kar dene ke alava aur koe elaz nahi hai,Shahio ko salam

रविकर ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति ||
शुभकामनायें भाई जी ||

Vibha Rani Shrivastava ने कहा…

श्रद्धांजली देने में हम शर्मिंदा हैं .....
हमारे दामन पर भी छीटें हैं .............

archanaa raj ने कहा…

पलटकर फिर भी ये बेशर्म आँखें दिखाएंगे
हमारे सैनिकों की मौत पर खुशियाँ मनाएंगे
चलो अब खुद करें ऐलान हम ही युद्ध का
कलम कर दें हर उस इंसान को
खड़ा है जो हमारे देश के सम्मान पर !!

ऊर्जावान प्रभावशाली रचना !!

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

सिर्फ देश के एक बड़े नेता का सर कलम कर दो ...फिर तमाशा देखो

BS Pabla ने कहा…

विचारोत्तेजक

Naveen Mani Tripathi ने कहा…

besharm neta unke antim sanskar me bhi jana munasib nahi samjhate hain ......unhen dr hai ki kahin Pakistan ke samarthak unke vote km na ho jayen ........rachana behad prabhavshali lagi ...sadar aabhar Kali Prasad ji .

कविता रावत ने कहा…

शर्म कहाँ आती हैं अब बेशर्मों को ....
प्रेरक प्रस्तुति

Kailash Sharma ने कहा…

दुखद और शोचनीय स्तिथि...बहुत सटीक अभिव्यक्ति...

Rachana ने कहा…

uf ye hamari sarkar hi hai jo chup hai kahin aur hota to ab tak na jane kya kya ho gaya hota ................
rachana

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

अमर शहीदों को शत शत नमन,,,,

recent post : जन-जन का सहयोग चाहिए...

Dr. Monika C. Sharma ने कहा…

नमन ....भारत माँ के वीरों को

धीरेन्द्र अस्थाना ने कहा…

वे सब फाईलें अभी भी मेंज पर धुल चांट रही हैं और परिवार वाले चक्कर लगा रहे हैं !

भारत में शहीदों का यही हश्र होता आया है !
स्थिति और समय की ओर ध्यानाकृष्ट करती रचना !

Ashok Saluja ने कहा…

नमन ..शहीदों को !
स्वागत है आपका ....
बहुत कुछ सीखने को मिलेगा आपसे !
आभार!

Sriram Roy ने कहा…

भारत माता की जय ....

Er. Shilpa Mehta : शिल्पा मेहता ने कहा…

namaskar -

raajneeti me aane ke liye do saal kee sainya seva anivaary shart banaa dee jaaye to kaisa rahe ?

Kalipad "Prasad" ने कहा…

शिल्पा जी मैं आपसे सहमत हूँ परन्तु दो साल नहीं पांच साल अनिवार्य मिलिट्री रेगुलर सर्विस होना चाहिए .जिसमे उन्हें निस्वार्थ सेवा, देश भक्ति ,अनुशासन ,विनम्रता आदि की शिक्षा दी जनि चाहिए.

सदा ने कहा…

वर्तमान परिस्थितियां बस शर्मिन्‍दा कर जाती हैं ... हम खामोशी से बस विष पान करते रहते हैं पल-पल
बेहद सार्थक व सशक्‍त लेखन
आभार सहित
सादर

Maheshwari kaneri ने कहा…

नमन भारत के वीर जवानो को को..

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

अमर शहीदों को श्रद्धांजलि !
राजनीति में आनेवालों के लिये कुछ योग्यताएँ (शिक्षा चरित्र आदि की )अनिवार्य होनी चाहिएं ,और समय-समय पर निष्ठा और कर्तव्य कार्यों का परीक्षण भी होता रहे .सन्नद्ध न रहें, तो हटा देने का प्रावधान ज़रूरी है. .

Pankaj Kumar Sah ने कहा…

बढ़िया रचना .जय हिंद ....आप भी पधारो स्वागत है ...http://pankajkrsah.blogspot.com

मन के - मनके ने कहा…



शहीद की कुरबानी,राजनीति की कीचड में
धंस जाती है,यह एक कटु सत्य है,कौन देखे
अबोध आम्सुओम को,बूधी आंखों में टूटती
उम्मीदें,और सूनी मांगों को,सब बहरे-अम्धे हैं
भाव पूर्ण रचना,कई प्रश्नों को अन्नुतरित छोड गई.