गुरुवार, 5 दिसंबर 2013

कालाबाश फल

                        मित्रों ! तीन दिसम्बर को मैं हाइगा बनाने की  कोशिश कर रहा था ! मेरे केमेरा द्वारा लिया गया एक चित्र पर मेरी नज़र पड़ी ! एक पेड़ पर कुछ लौकी जैसे फल लगे थे पर लौकी नहीं थे  | कठहल जैसे लटक रहे थे पर शरीर पर कांटे नहीं थे अत: कठहल नहीं था |सोचने लगा क्या था वह ? तभी दिमाग में बात आई क्यों न  इसपर एक हाइकु लिखकर हाइगा बना दिया जाय और जानकारो से जान लिया  जाय | झट पट एक हाइकु लिख डाला --
                                                                  वृक्ष का फल 
                                                              जैसे लौकी वैसा हूँ 
                                                                 बोलो कौन हूँ |
चित्र के साथ पब्लिश कर दिया |आप सब ने देखा परन्तु सही नाम शायद  किसी को मालुम नहीं है   |मैं भी नहीं जानता था | पेड़ के पास एक बोर्ड था|उसका चित्र  मैंने  ले लिया था , जिसपर लिखा था :-
                                     Scientific name.... Crescentia Cujete
                                     Common name .....Calabash Tree
                                      Family   ...............Bignanioceae
 
मैंने calabash गूगल सर्च मे डाला तो उसके चित्र सहित पुरा  जानकारी मेरे सामने था |उसका कुछ चित्र यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ |अधिक जानकारी  केलिए  गूगल में " Calabash fruit" लिख कर  सर्च करें|
इसकी उत्पत्ति मध्य अमेरिका में हुआ परन्तु इसका उपयोग फिलीपींस में दवाई के रूप में होने लगा था ! अब पुरे विश्व में इसका सिमित रूप में उपयोग होता है ! मैंने इसे हैदराबाद से  ४० किलोमीटर दूर प्रगति रिसोर्ट में देखा था |यह एक हर्बल रिसोर्ट है |हाइगा चित्र वहीँ का है | अभी का सभी चित्र गूगलसे साभार लिया गया है |


 


                                                                                       
               


                                                                                 








                                                                         






                                                                                 


कालीपद "प्रसाद "


18 टिप्‍पणियां:

arvind mishra ने कहा…

यह पढ़िए -आप दो लोग इस विचित्र फल पर लिख चुके हैं -
http://mallar.wordpress.com/2013/11/23/%E0%A4%B9%E0%A5%81%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%95%E0%A5%81%E0%A4%AE-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%AA%E0%A5%87%E0%A5%9C-%E0%A4%95%E0%A4%9A%E0%A5%8D%E0%A4%9B%E0%A4%AA%E0%A5%87%E0%A4%B6%E0%A5%8D%E0%A4%B5/

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (05-12-2013) को "जीवन के रंग" चर्चा -1452
पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

कालीपद प्रसाद ने कहा…

आपका बहुत बहुत आभार शास्त्री जी !

कालीपद प्रसाद ने कहा…

हाइगा पर शायद आपकी नज़र नहीं पड़ी ,नहीं तो आप सही नाम बता देते ! आभार

रविकर ने कहा…

नाम नहीं पता है -
लेकिन लौकी जैसा है-
कालाबाश फल
सुन्दर प्रस्तुति-
आभार आदरणीय-

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुंदर !

Digamber Naswa ने कहा…

चलिए हाइगा के बहाने एक फल की जानकारी तो मिल गई ... आभार ...

Vinnie Pandit ने कहा…

Chliye aap ne ham sab kaa gaan badaaya.
Dhanyavad,
Vinnie

नीलिमा शर्मा ने कहा…

http://hindibloggerscaupala.blogspot.in/ के शुक्रवारीय ६/१२/१३ अंक में आपकी रचना को शामिल किया जा रहा हैं कृपया अवलोकनार्थ पधारे ............धन्यवाद

sunita agarwal ने कहा…

ek nayi jaankari .. sukriya :)

Upasna Siag ने कहा…

bahut badhiya aur nayee jaankari..

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

हाँ बड़ा कौतुक पैदा करते हैं ये मनाव सेवी वृक्ष .

Meena Pathak ने कहा…

कुछ कुछ बेल जैसा है सबसे ऊपर वाला

Maheshwari kaneri ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!

राजीव कुमार झा ने कहा…

बिल्कुल नई जानकारी.

कालीपद प्रसाद ने कहा…

नीलिमा जी आपका आभार !

Asha Saxena ने कहा…

बढ़िया प्रस्तुति |

विवेक झा ने कहा…

एक नया फल जिसका भले ही स्वाद मालूम न हो लेकिन कम से कम बता तो सकते हैं अब कि - "हाँ भाई पहचानता हूँ इसे "