सोमवार, 24 फ़रवरी 2014

शब्द और ईश्वर !!!



            हर शब्द की उत्पत्ति इन्सान ने किसी विशेष अर्थ /अनुभव /एहसास इत्यादि व्यक्त करने के लिए किया है इसीलिए शब्द शक्ति सिमित है ,ईश्वर को इन शब्दों में व्यक्त नहीं किया जा सकता क्योंकि ईश्वर अनंत है, असीमित है l यही कारण है आजतक सभी धर्मशास्त्र ईश्वर का सही स्वरुप को व्यक्त करने में असमर्थ रहे है क्योंकि .कोई भी धर्म शास्त्र पूर्ण नहीं है जबकि ईश्वर पूर्ण हैंl
             मानवीय अनुभितियाँ भी अनंत हैं ,इसका आयाम भी अनंत है अत : मानव की हर अनुभूति को शब्द व्यक्त नहीं कर सकता| गुड मीठा है ,शक्कर मीठा है ,शहद मीठा है, पर हर मिठास अलग अलग है ,बहुत सूक्ष्म अंतर है , उस अंतर को निश्चित रूप से बताने वाला कोई शब्द नहीं है |उसीप्रकार कोई शब्द भी ईश्वर को ठीक ठीक परिभाषित नहीं कर पाता या यूँ कहे कोई शब्द ईश्वर तक पहुँच नहीं पाता | सब शब्द ईश्वर के आसपास घूमते हैं पर ईश्वर तक पहुँच नहीं पाते| इसीलिए इंसान भी ईश्वर को जान नहीं पाया ! जिस दिन ईश्वर तह पहुँचने वाला शब्द की उत्पत्ति होगी उसी दिन इंसान को ईश्वर मिल जायेंगे !

    Every word is  created by man to express some specific meaning/experience/feelings/perception/realization,hence power of words is limited .With these words GOD can not be described/defined/reached because GOD is eternal,boundless,infinite,measureless.
With these limited meaning of words all religious books are written, that is why these books are unable to describe/define GOD's form and HIS existence. These books are imperfect and GOD is PERFECT.
        Human perceptions are unlimited/infinite .Every perception can not be expressed by existing words, for example sugar is sweet and honey is also sweet but there is very minute difference in their sweetness.There is no word to describe that difference.Exactly the same way word-power can not exactly define or describe GOD.It revolve round GOD, can not reach GOD. God is beyond word power. The day man is able to create the word to define/reach GOD,Man will reach GODNESS.

कालीपद "प्रसाद "
©सर्वाधिकार सुरक्षित

13 टिप्‍पणियां:

Upasna Siag ने कहा…

sahi kaha aapne ....ishwar ki shakti ko shabdon me vykt nahi kar sakte hai , keval mahsus hi kiya ja sakta hai ...bahut sundar vivechna ki aapne ...

Rahul... ने कहा…

मानवीय अनुभितियाँ भी अनंत हैं ,इसका आयाम भी अनंत है....

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सच है शब्दों की ताकत सीमित है ...

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

विचारणीय...शब्द सब कुछ नहीं समेट सकते.....

Pallavi saxena ने कहा…

सही कहाँ आपने शब्दों की ताकत सीमित ज़रूर है मगर कम नहीं ...सुंदर रचना।

Digamber Naswa ने कहा…

सोचने वाली बात ... सच है की शब्द का संसार सिमित है वर मानव की क्षमताएं विस्तृत ...

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (25-02-2014) को "मुझे जाने दो" (चर्चा मंच-1534) पर भी होगी!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

sadhana vaid ने कहा…

बिलकुल सही कहा आपने ! ईश्वर को पूर्ण रूप से जानना और सीमित शब्द क्षमता के साथ परिभाषित करना नितांत असंभव है और जो प्रयत्न करते भी हैं कदाचित उनका ज्ञान भी अधूरा होता है और अभिव्यक्ति भी ! सार्थक प्रस्तुति !

कालीपद प्रसाद ने कहा…

आपका आभार शास्त्री जी !

Ashok Saluja ने कहा…

एक ही मंजिल तक पहुँचने के लिए अलग-अलग राहों पर सफर जारी है ...

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

अदभुद !

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

पूर्ण अभिव्यक्ति है श्रीमदभागवत पुराण श्रीकृष्ण भगवान की आपके ईश्वर की। पौर्वत्य सनातन धर्म में भागवतपुराण के अलावा श्रीमदभगवत गीता तथा रामचरित मानस में भी ईश्वर की पूर्ण अभिव्यक्ति है। अलबत्ता उसके गुण अनंत हैं। रेत के कणों ,वर्षा की बूंदों को गिना जा सकता है ईश्वर के गुणों को नहीं उनका पूरा ब्योरा स्व्यं ईश्वर भी नहीं दे सकता।

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

सुन्दर अर्थगर्भित प्रस्तुति