शनिवार, 16 फ़रवरी 2013

प्रेम,विरह,ईर्षा

1.                                         प्रेम 
                                     संक्रामक है 
                                 बिना जीवाणु के।

2.                                       प्रेम 
                                 सच्चा है ,पक्का है 
                               रंग  धीरे धीरे चढ़ता  है।

3                                     प्रेमोन्माद 
                                    जल्दी चढ़ता है  
                             कच्चा है ,जल्दी उतरता है।

4                                    प्रेम,बुखार है  
                               चढ़ता है,कभी उतरता है 
                            कभी  नफरत ,कभी  परहेज है।

5                                            प्रेम ,
                                         पागलपन है 
                               रिश्ते तोड़ता है,नया बनाता है  

6                                       प्रेम, अँधा है  
                                  ना जात-पात ,ऊंच-नीच 
                                    ना उम्र का बंधन है।

7                                      विरह की अग्नि 
                                        दूर से जलती है 
                                      पास आकर बुझती है।

8                                               ईर्षा 
                                          दुसरे की खूशी 
                                          अपनी बर्बादी। 



कालीपद "प्रसाद "
©सर्वाधिकार सुरक्षित

15 टिप्‍पणियां:

dr.mahendrag ने कहा…

VIRAH KI AGNI DOOR SE JALTI HAE, PAS AAKAR BUJHTI HAE
SUNDAR RACHNA

Sadhana Vaid ने कहा…

भावपूर्ण अभिव्यक्ति !

शालिनी कौशिक ने कहा…

ईर्षा
दुसरे की खूशी
अपनी बर्बादी।
बहुत सुन्दर भावनात्मक प्रस्तुति .एक एक बात सही कही है आपनेनारी खड़ी बाज़ार में -बेच रही है देह ! संवैधानिक मर्यादा का पालन करें कैग

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

bilkul sahi prem pagalpan bhi hai........khud ko bhul jaate hain auron ko yad karke...

रविकर ने कहा…

प्रेम पर नए -पुराने दृष्टि-कोण पर एक और कोण -
शुभकामनायें आदरणीय-

Tushar Raj Rastogi ने कहा…

प्रेम का बहुत ही उम्दा और सटीक वर्णन किया आपने | बहुत सुन्दर प्रस्तुति | बधाई

Tamasha-E-Zindagi
Tamashaezindagi FB Page

G.N.SHAW ने कहा…

जो भो दो दिलो की भाषा है |बहुत सुन्दर

दिगम्बर नासवा ने कहा…

प्रेम के रंग में पके ... लजवाब हाइकू ...
बहुत खूब ...

Rajendra Kumar ने कहा…

बहुत ही भावपूर्ण प्रेम की प्रस्तुति.

Rewa ने कहा…

bahut khoob....prem aisa hi hota hai

रश्मि शर्मा ने कहा…

प्रेम के कई रूप..सु्ंदर

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

प्रेम आदत है ,खुद से संवाद है .बहुत सुन्दर प्रस्तुति .प्रेम आदत है .स्वभाव है .

Saras ने कहा…

वाकई..!!! प्रेम कुछ ऐसा ही है ...:)

Girish Billore ने कहा…

वाह क्या बात है

expression ने कहा…

वाह.....
सटीक परिभाषाएँ....
बहुत बढ़िया.

सादर
अनु