रविवार, 31 अगस्त 2014

गणपति वन्दना (चोका )


गणपतये नम:


विध्न हन्ताय 
ऋद्धि सिद्धि दाताय
पार्वती पुत्रं
अहम्  त्वम नमामि |
आरती करूँ 
जन गण विधाता 
विनायक का  |
मुसा पर सवार 
मोदक प्रिय 
लम्बोदर देवता 
मंगल मूर्ती 
गजेन्द्र मुंड धारी 
त्वम् नमामि |
महादेव नंदन 
करूँ वंदन
पद द्वय तुम्हारे 
गण हिताय 
गण पतये नम:
गण रक्षक 
गण राजाय नम:
वृहदाकार 
गज कर्णय  नम:
विद्या भण्डार 
विद्या दाताय नम:
महाभारत 
लिपिकायाय नम:
वुद्धि दाताय नम:|



चोका : ५+7+५+7+५+7 +...............+५+7+५+7+7 

कालीपद 'प्रसाद '
सर्वाधिकार सुरक्षित

10 टिप्‍पणियां:

निर्मला कपिला ने कहा…

बहुत सुन्दर चोका1

देवदत्त प्रसून ने कहा…

बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति !

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (01-09-2014) को "भूल गए" (चर्चा अंक:1723) पर भी होगी।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

कालीपद "प्रसाद" ने कहा…

आपका हार्दिक आभार रूपचन्द्र शास्त्री जी !

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत सुन्दर
जय श्री गणेश!
गणेशोत्सव की मंगलकामनायें।

आशीष अवस्थी ने कहा…

बढ़िया सुंदर प्रस्तुति , आ. धन्यवाद !
Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

Maheshwari kaneri ने कहा…

बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति

सदा ने कहा…

गणेशोत्‍सव की अनंत शुभकामनाएं

Unknown ने कहा…

बहुत सुन्दर
जय श्री गणेश

Unknown ने कहा…

सुंदर गणपति वन्दना।