बुधवार, 15 अक्तूबर 2014

कार्ला की गुफाएं और अशोक स्तम्भ


 कार्ला का प्राचीन नाम "बलुरक "था |कार्ला की पहाड़ियाँ  लोनावला  से करीब 20 कि.मी दूर और मुंबई के सोपारा (नालासोपारा )से करीब १०० कि ,मी . पूर्व-दक्षिण में स्थित है |भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के अनुसार ई ,पु  दूसरी शताब्दी से लेकर छठी शताब्दी के दौरान बौद्ध धर्म के १६ गुफाएं हैं | इनमे से एक  गुफा के  मुख्य द्वार पर एक अशोक स्तम्भ है (चार शेरों की  मूर्ती )! यह हुबहू सारनाथ के अशोक स्तम्भ जैसा है | इसमें रख रखाव की कमी के कारण इस पर घास और दुसरे बनस्पतियां उग आयें हैं फिर भी स्तम्भ तन कर खड़ा है | यहाँ एकविरा देवी का मंदिर भी है ! लोग देवी पूजन के लिए यहाँ आते हैं और प्राचीन गुफाओं के सैर का आनंद भी उठाते हैं ! हमने भी इसका आनंद उठाया |कुछ चित्र नीचे प्रस्तुत कर रहा हूँ !






गुफा के ऊपर से गिरते पानी मेनन बच्च खेल रहे हैं |

उफ़ा के अन्दर जाने के लिए सीडी (फिलहाल बंद है )




मुख्य द्वार

द्वार के ऊपर का दृश्य


                                                                              
अर्ध वृत्ताकार सभागृह



भीतर का दृश्य

द्वार पर अशोक स्तम्भ






कालीपद "प्रसाद "

9 टिप्‍पणियां:

Ankur Jain ने कहा…

चित्रों को देख इन्हें प्रत्यक्ष देखने को जी ललचा उठा।

देवदत्त प्रसून ने कहा…

अच्छी प्रस्तुति ! अच्छी ऐतिहासिक जानकारी !!

आशीष अवस्थी ने कहा…

Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )
आपकी इस रचना का लिंक दिनांकः 16 . 10 . 2014 दिन गुरुवार को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर दिया गया है , कृपया पधारें धन्यवाद !

Sanjay Kumar Garg ने कहा…

मन को प्रसन्न करने वाली चित्रमय प्रस्तुति बधाई !
धरती की गोद

Lekhika 'Pari M Shlok' ने कहा…

Waah bahut adbhut nazara hai mujhe to mza aa gya sb dekh kar ..dhanywad itne. Sunder prastuti padhwaaane va chitr dikhaane k liye!

Satish Saxena ने कहा…

बहुत खूब , मंगलकामनाएं आपको भाई जी !!

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

good job sir .

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

सुन्दर सचित्र मनोमुग्धकारी वर्णन पढ़ कर आनन्द आ गया .धन्यवाद ऍ

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

ज़वाब नहीं कैमरे की आँख का। सुन्दर छायांकन बढ़िया जानकारी।