सोमवार, 16 दिसंबर 2013

चंदा मामा

गूगल से साभार




                                       चंदा मामा है ....दूर देश में ...
                                 घुमते फिरते हैं .. आकाश में ...|

                                 पल पल बढ़ते ..बढ़ते जाते ...
                                 सूरज जैसा गोल हो जाते ...
                                 पूर्णिमा को धवल चाँदनी 
                                 धरती पर वो फैलाते .....,
                                 चांदनी फैली वन जंगल में 
                                 हिम आलय ओ  अम्बर में...
                                 चंदा मामा है ....दूर देश में ...
                                 घुमते फिरते हैं .. आकाश में ..|

                                  फिर मामा का  रूप बदलता...
                                  पल पल वो घटता जाता ...
                                  अमावश में वो छिप जाता...
                                  धरती पर अँधेरा छा  जाता .....
                                  एक दिन का विश्राम लेकर 
                                  फिर उग जाते आकाश में ....
                                  चंदा मामा है ....दूर देश में ...
                                  घुमते फिरते हैं .. आकाश में ..|


                                 कालीपद "प्रसाद "                               
                                 ©सर्वाधिकार सुरक्षित 

                              
   
                                |

16 टिप्‍पणियां:

Unknown ने कहा…

CHANDAMAAMA KA SUNDAR CHITRAN AUR PRAKRITI KA MANORAM DARSHAN

virendra sharma ने कहा…

चन्द्र कलाओं को बाल रचना के रूप में समझा दिया आपने।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज मंगलवार (17-12-13) को मंगलवारीय चर्चा मंच --१४६४ --मीरा के प्रभु गिरधर नागर में "मयंक का कोना" पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Neeraj Neer ने कहा…

बहुत सुन्दर

Rewa Tibrewal ने कहा…

bahut sundar rachna

कालीपद "प्रसाद" ने कहा…

आपका आभार मयंक जी!

दिगंबर नासवा ने कहा…

बहुत सुन्दर भाव लिए ... अच्छी प्रस्तुति ...

Madan Mohan Saxena ने कहा…

बहुत खूब ,उम्दा पोस्ट के लिए बधाई |

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

वाह !

Unknown ने कहा…

चन्द्र कलाओं को शब्द देती सुन्दर प्रस्तुति

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत ही उम्दा,अभिव्यक्ति ...!
RECENT POST -: एक बूँद ओस की.

निहार रंजन ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना.

Maheshwari kaneri ने कहा…

चन्द्र कलाओं को द्र्शाती सुन्दर प्रस्तुति..आभार

Dr. sandhya tiwari ने कहा…

BAHUT HI SUNDAR RACHNA ...............

Poonam Matia ने कहा…

बहुत सुंदर सरल शब्दावली ........

राजीव कुमार झा ने कहा…

बहुत सुन्दर .
नई पोस्ट : मृत्यु के बाद ?