रविवार, 22 दिसंबर 2013

चाँदनी रात

         
चाँदनी रात




सूरज जब छुप जाता  हैं 
सांझ की काली आँचल में ,
तारों में तुम अकेला चंदा 
चाँदनी फैलाते हो जग में |





                                                                                 २ 

                                           कभी बादलों के पीछे
                                             कभी पेड़ के पीछे
                                         छुपते छुपाते तुम आते हो 
                                   हम बच्चों को  पुलकित कर जाते हो |



                                                  ३       

                                                               ऊपर आकाश नीला 
                                      नीचे जलधि का जल नीला 
                                 अँधेरे को भगाती चाँद की चाँदनी 
                                नाविक का रास्ता बनाती उजला |
                                                    


                                                            


साभार : चित्र गूगल से साभार


कालीपद "प्रसाद "
सर्वाधिकार सुरक्षित

15 टिप्‍पणियां:

Rewa tibrewal ने कहा…

wah ! sundar chitr kay saath sundar panktiyan

Upasna Siag ने कहा…

बहुत सुन्दर ....

Pallavi saxena ने कहा…

सुंदर रचना ....

sadhana vaid ने कहा…

बहुत सुंदर तस्वीरें और उन्हें सार्थक करती क्षणिकायें ! बहुत खूब !

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

भावपूर्ण पंक्तियाँ,सुंदर प्रस्तुति ...!
=======================
RECENT POST -: हम पंछी थे एक डाल के.

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुंदर !

Ranjana Verma ने कहा…

बहुत सुंदर क्षणिकाएं....

Digamber Naswa ने कहा…

वाह .. हैक्गा के साथ क्षणिकाएं भी ... लाजवाब तडका ...

Meena Pathak ने कहा…

अति सुन्दर

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

सुन्दर हाइगा और क्षणिकाएँ, बधाई.

Akhil ने कहा…

sundar prastuti..

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

waah bahut sundar ...naye roop men .....

pratibha sowaty ने कहा…

khubsurat post sr

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति

सतीश सक्सेना ने कहा…

सुंदर रचनायें . . .