सोमवार, 2 दिसंबर 2013

हँस-हाइगा

                 दोस्तों ! शिक्षा की दृष्टि से पूरी  जिंदगी ही  बाल्यकाल है | बाल्यकाल में ही शिक्षा आसानी होती है |कोशिश कर रह हूँ  बाल्यकाल को फिर से जीने की और नई  चीज सीखने की | आप लोगो से ही जाना हाइगा क्या  है | हाइगा का प्रथम चित्र प्रकाशित कर रहा हूँ |बताइए सही बना कि  नहीं ? सुझाव सादर आमंत्रित है |


                                                                               
चित्र- मेरे केमेरा




       कालीपद "प्रसाद"                                                                    

16 टिप्‍पणियां:

Alpana Verma ने कहा…

बहुत खूब!

अगर शब्द भण्डार अच्छा है तो व्यक्ति को हाइगा' ,हायकू या क्षणिकाएँ लिखने में आनंद आएगा.
[एक सुझाव है कि रंगीन अक्षर अगर हलके रंग की पृष्ठभूमि पर लिखे होते तो पढने में आसान होते .]

pratibha sowaty ने कहा…

sr ka pahla ' haiga ' h dilkholke 100 me se 100 / agli bar alpnaji ki bat dhyan rakhiyega sr :)

कालीपद प्रसाद ने कहा…

अल्पना जी ! आपके सुझाव सराहनीय है -ध्यान रखूँगा |आभार |

कालीपद प्रसाद ने कहा…

आभार प्रतिभा जी ! आपका पेंटिंग का सुझाव काम आ गया !

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज मंगलवार (03-12-2013) की 1450वीं में मंगलवारीय चर्चा --१४५० -घर की इज्जत बेंच,किसी के घर का पानी भरते हैं में "मयंक का कोना" पर भी होगी!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

sadhana vaid ने कहा…

बहुत खूबसूरत हाइगा है कालीपद जी ! अल्पना जी के सुझाव से मैं भी सहमत हूँ !

कालीपद प्रसाद ने कहा…

प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद साधना जी !

कालीपद प्रसाद ने कहा…

आपका आभार शास्त्री जी !

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुंदर !

Aparna Bose ने कहा…

बहुत सुन्दर

कालीपद प्रसाद ने कहा…

धन्यवाद सुशील कुमार जी !

कालीपद प्रसाद ने कहा…

अनेक दिन परे एलेन ,धन्यवाद ! भालो आछेन तो ?

Rewa tibrewal ने कहा…

sundar

रविकर ने कहा…

सुन्दर-
आभार -

Digamber Naswa ने कहा…

मस्त ... मज़ा आया ...

दे४व्दुत्तप्रसून ने कहा…

स्वतंत्र भाव प्रकाशन का चित्र एक अच्छा माध्यम है !