शनिवार, 7 दिसंबर 2013

                          शहंशाह का फरमान --तामिल  हो !




                                                                                   
कालिपद "प्रसाद "
सर्वाधिकार सुरक्षित

14 टिप्‍पणियां:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

खुश रहिये जब तक सो रही है :)

Meena Pathak ने कहा…

शुभ दिवस :)

Ashok Saluja ने कहा…

ध्यान में भी सजग हूँ ......:-)

रविकर ने कहा…

बढ़िया -
आभार भाई जी-

Digamber Naswa ने कहा…

मस्त है ...

Pallavi saxena ने कहा…

badhiya...

Upasna Siag ने कहा…

:)))))))

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (08-12-2013) को "जब तुम नही होते हो..." (चर्चा मंच : अंक-1455) पर भी होगी!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

कालीपद प्रसाद ने कहा…

आभार शास्त्री जी !

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

सुन्दर हाइगा. बधाई.

Kaushal Lal ने कहा…

सुन्दर........

Maheshwari kaneri ने कहा…

बहुत सुन्दर हाइगा. बधाई.

Prasanna Badan Chaturvedi ने कहा…

बहुत उम्दा प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...
नयी पोस्ट@ग़ज़ल-जा रहा है जिधर बेखबर आदमी

कालीपद प्रसाद ने कहा…

प्रोत्साहन के लिए आप सबका आभार !